Home > Dharma > भगवान् शिव की 28,468 साल पुरानी मूर्ति ‘कल्प विग्रह’ की कहानी अमेरिकी खुफिया एजेंसी की जुवानी

भगवान् शिव की 28,468 साल पुरानी मूर्ति ‘कल्प विग्रह’ की कहानी अमेरिकी खुफिया एजेंसी की जुवानी

KalpaVigraha 26450BC OldestIdol
Share This Post





कहा जाता है की हिन्दू धर्म दुनिया का सबसे पुराना धर्म है और सनातन है। सनातन का अर्थ होता है की जिसका ना आदि हो और ना अंत हो वही सनातन है अर्थात सनातन हिन्दू धर्म। पुरे हिंदुस्तान में खुदाई में बहुत मूर्ति मिली हैं और मिलती रहती हैं यहाँ तक की दूर विदेशों में भी खुदाई में हिन्दू मूर्ति मिली हैं। अनेको हिन्दू देवी-देवताओं की बेशकीमती मूर्तियां तो विदेशों में तस्करी कर बेच दी गई। कांग्रेस सरकार पर भी हिन्दू मूर्ति विदेशो में तस्करी करने के आरोप लगते रहे हैं।

आज हम आपको एक ऐसी ही हिन्दू मूर्ति कल्प विग्रह की राहश्यामय बात बताने जा रहे हैं। यह कल्प विग्रह मूर्ति हिन्दू देवता भगवान् शिव जी की है। इस शिव जी की मूर्ति कल्प विग्रह को दुनिया की सबसे पुरानी मूर्ति मना जाता है। जी हैं आपने ठीक पढ़ा की सबसे पुरानी मूर्ति। इस मूर्ति की कहानी किसी हॉलीवुड थ्रिलर मूवी की तरह है।


26450 BC की शिव मूर्ति ‘कल्प विग्रह’ का रहस्य:-

यह बात है 1959 की जब तिब्बत पर चीन कब्ज़ा कर रहा था। चीन ने तिब्बत पर बल प्रयोग करना आरम्भ कर दिया था। ऐसे में अमेरिकी ख़ुफ़िया एजेंसी को आदेश मिला की तिब्बत में एक बौद्ध भिक्षु की मदत करनी है और उनसे कुछ जरुरी सूचना और दस्तावेज़ प्राप्त करने है।

एक वेबसाइट बुक्स फैक्ट डॉट कॉम और कोरा में प्राप्त खबर के अनुसार 1960 का आरम्भ हो गया था और तिब्बत के उस बौद्ध भिक्षु से अमेरिकी खुफिया एजेंसी CIA ने संपर्क किया और तिब्बत में खुफिया मिशन चलाया गया। उस बौद्ध भिक्षु और उनके अंग रक्षकों से अमेरिकी जासुजों को यह कल्प विग्रह नामक शिव जी की छोटी मूर्ति एक प्राचीन पाण्डुलिपि और कुछ दस्तावेज़ हाँथ लगे।


कार्बन डेटिंग में 28450 साल पुरानी निकली मूर्ति

अमेरिकी खुफिया एजेंसी के लोग मिशन खत्म करके उन सभी दस्तावेज़ों के साथ वह भगवान् शिव की मूर्ति कल्प विग्रह और उस प्राचीन पाण्डुलिपि भी अपने साथ अमेरिका ले आये। उस मूर्ति की अमेरिका की केलिफोर्निया की लैब में कार्बन 14 डेटिंग (Carbon 14 Dating) के ज़रिए टेस्टिंग करवाई गई तो एक चौकाने वाली जानकारी मिली।

Carbon 14 की जांच में वह भगवान् शिव की मूर्ति कल्प विग्रह 26450 ईसा पूर्व की पाई गई अर्थात 28450 वर्ष पुरानी निकली। आज के वक़्त यह भगवान् शिव की मूर्ति कल्प विग्रह मूर्ति 28468 साल पुरानी है। जांच एजेंसी और जाँच लैप ने इस मूर्ति कल्प विग्रह को दुनिया की सबसे पुरानी मूर्ति करार दिया। दुनिया की सबसे प्राचीन सभ्यता जैसे सिंधु घाटी सभ्यता, मिश्र की सभ्यता और सुमेरियन सभ्यता भी 6000 साल तक की पुरानी हैं। किन्तु रह मूर्ति तो इन प्राचीन सभ्यताओं से भी 20000 साल पुरानी है।




फिर यह 26450 BC की 28468 साल पुरानी मूर्ति कल्प विग्रह अमेरिकी खुफिया एजेंसी CIA के वाशिंगटन के स्टोर रूम में रख दी गई और कई दशकों तक किसी ने ध्यान भी नहीं दिया। फिर अचानक पता चला की यह दुनिया की सबसे पुरानी मूर्ति कल्प विग्रह वहाँ नहीं है और जांच में पता चला की किसी ने मूर्ति गायब कर दी।

अमेरिका सरकार ने बहुत जांच और पूर्व कर्मचारियों से पूछताछ की तो बता चला की मूर्ति कल्प विग्रह को तस्करी कर भारत पंहुचा दिया गया है। अब कुछ लोगो का कहना है की अब यह भगवान् शिव की प्राचीन मूर्ति कल्प विग्रह भारत में आंध्रप्रदेश में हैदराबाद के आसपास किसी के पास पहुँच गई है। किन्तु अभी सही सही लोकेशन का पता नहीं चल पाया है और अमेरिकी सरकार इस मूर्ति पर बड़ा इनाम भी घोषित कर चुकी है।

Kalpa Vigraha Idol Mystery Story in Hindi: World oldest idol of Lord Shiva is Kalpa Vigraha which is from 26450 BC. Oldest Hindu Idol of Lord Siva 26450 BC.



Share This Post
Nitin Chourasia
Nitin Chourasia
Uploaderleaks is online news portal in Hindi. Nitin Chourasia is the founder and chief editor of this portal. If any query mail on uploaderleaks@gmail.com
http://www.uploaderleaks.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *