Home > India > राहुल गाँधी भारत को Venezuela बना देंगे, अगर PM बन इस योजना को लागु कर दिया

राहुल गाँधी भारत को Venezuela बना देंगे, अगर PM बन इस योजना को लागु कर दिया

Share This Post

आज कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी भारत की गरीब जनता को मुफ्त के 72000 रुपये देने की बात कर रहे हैं। राहुल गाँधी ने अगर यह योजना चला भी दी तो देश से गरीबी तो नहीं मिटेगी, बल्कि देश में भुखमरी के हालात हो जायेंगे। राहुल गाँधी चुनावी वादा कर रहे कि 5 करोड़ गरीब परिवारों को 12000 रुपये महीना या 72000 रुपये सालाना देंगे।




ऐसे में राहुल गाँधी भारत जल्द ही venezuela बनाना चाहते हैं। राहुल गाँधी 25 करोड़ लोगों को मुफ्त में रुपये देकर लाचार बनाना चाहते हैं। राहुल गाँधी के इस नए भारत रुपी Venezuela की मुफ्तखोरी योजना का बजट 360000 करोड़ रु होगा। Congress सत्ता में वापसी के लिए इस देश को Venezuela जैसा बनाने पर तुली हुई है।

आपने Venezuela नामक देश के बारे में तो जरूर सुना होगा, यह देश एरिया के हिसाब से काफी बड़ा देश है। यह देश इतना बड़ा की भारत का उत्तरप्रदेश, बिहार, हरियाणा, पंजाब, बंगाल उड़ीसा मिलकर एक देश है और यहाँ की जनसंख्या मात्र साढ़े तीन करोड़ ही है। इससे दोगुना और तीन गुना आबादी तो भारत के एक राज्य की है। यह देश वेनेज़ुएला प्राकृतिक रूप से संपन्न है। यह की ज़मीन भी बहुत अधिक उपजाऊ है और वर्षा भी बहुत अच्छी होती है।



यहाँ पर 100 से भी ज़ादा छोटी बड़ी नदियां बहती है। समुद्र की बात करें तो हज़ार मील से भी ज्यादा लंबा समुद्र तट इस देश के पास है। मतलब सब कुछ है इस देश के पास, फिर भी अत्यंत उपजाऊ जमीन और बेहिसाब पानी होने के बावजूद इस देश मे आज भुखमरी फैली हुई है की दूर देश में खाने पीने के सामंनो की लूट मार मची हुई है।

देश मे खेती, किसानी, फल-सब्जी, दूध, पशु पालन , मछली पालन, फैक्ट्री जैसा कुछ भी लाम और धंदा नही है। मतलब इतना बड़ा और प्राकृतिक सम्पदा वाला देश अपने लिए गेहूं , चावल, फल, सब्जी नही उगा सकता है। लाखों वर्ग किलोमीटर के जंगल है तो गाय, भैंस, भेड़, बकरी भी नहीं चराते हैं यहाँ के लोग। यहाँ के नदियों और समंदर में मछली भी बहुत पाई जाती हैं, तो मछली पालन भी नहीं करते यहाँ के लोग।




इतना सब होने के बाद भी Venezuela में आज भूखा छाया हुआ है। Inflation की दर पिछले साल की तुलना में 16,98,488 % है। आज आपको भारतीय 1 रुपये के बदले में 3607 Venezuela की मुद्रा Bolivar मिल जाएगी। इस देश में आज एक बैग भरकर भी आप यहाँ की मुद्रा लेजायेंगे तो भी एक पैकेट ब्रेड नहीं मिलेगी। यहाँ पर 80 हज़ार Bolivar का एक लीटर दूध मिल रहा है।

Venezuela में दुनिया के सबसे बड़े कच्चे तेल के भंडार मौजूद हैं. इतने तो सऊदी अरब में भी नहीं है। आश्चर्य की बात टी यह है की सिर्फ 20 साल पहले Venezuela एक विकसित और संपन्न देश हुआ करता था. किन्तु यहाँ के नेताओं की गलत नीतियों और गलत योजनाओं ने एक विकसित और संपन्न देश को सिर्फ 20 साल में भुखमरी की कगार पर लाकर खड़ा कर दिया है। आज ये हाल है कि वेनेजुएला की अधिकांश लड़कियां एक Bread के टुकड़े के लिए वेश्यावृत्ति को भी तैयार है।




अब आपके मन में यह प्रश्न आ रहा है की ऐसा क्या हुआ इस देश को? तो आपको बता दें की एक अच्छा शासक अपने देश को 20 साल में सिंगापुर बना सकता है, तो एक बुरा शासक अपने देश को Venezuela भी बना सकता है। वेनेजुएला के शासकों ने बहुत बड़ी गलती की थी।

World War 2 के बाद, जब पूरी दुनिया मे तेल की बहुत मांग बढ़ी थी और तेल के दाम अपने चरम पर थे, तब यह देश आबाद हो गया। सन 1945 में ही देश रोज़ाना 1 Million Barrel तेल बना रहा थ। देश में बहार से बहुत पैसा बरस रहा था। यहाँ की सरकार ने अपने नागरिकों को मुफ्त की खैरात बांटना चालु कर दिया था । देश की हर सेवा सरकारी और मुफ्त थी । तेल के बदले में दुनिया भर से सामान भी आता था जैसे राशन , अनाज, फल, सब्जी, दवाइयां, मशीनरी, कपड़ा हर जरुरत की चीज़ दूसरे देशों से Import होती थी। यह सब तेल के बदले मिल रहा था. यहाँ की सरकार को बहुत फायदा हो रहा था। सरकार अपने नागरिकों को सब कुछ मुफ्त दे देती थी।



यहाँ एक ओर 50 और 60 के दशक में पूरी दुनिया मेहनत कर रही थी और नए नए उत्पादन और अविष्कार में लगी थी, तो वहीँ दूसरी तरफ Venezuela में एक सूई तक नहीं बनती थी और उनकी तो टमाटर आलू से लेकर ब्रेड तक भी यूरोप से आती थी। Venezuela एक बहुत खूबसूरत देश है। यदि कोई Tourist यहाँ आ भी जाता तो पूरे देश मे कोई उस यात्री को कोई एक भाव नहीं देता था बल्कि बुरा व्यवहार किया जाता था। अगर कोई दूसरे देश से रोज़गार की तालाश में भी आता तो यहाँ के लोग उसे पसंद नहीं करते थे, क्योंकि इस देश मे फ्री सेवा थी इसलिए सभी पार्टियां और जनता विदेशी लोगों को देश मे प्रवेश के खिलाफ थी कि हमारी मुफ्त सेवा का लाभ विदेशी लोगो को नहीं मिलना चाहिए।

Read Also:- वेनेजुएला का यह संकट दुनिया को World War 3 में धकेल रहा है, भारत में भी संकट आने वाला है

फिर सरकार ने हर परिवार से कम से कम एक आदमी को सरकारी तेल कंपनी PDVSA में नौकरी दे दी, जहां वो कोई काम नही करता था और मुफ्त पगार लेता था। फिर एक दिन तेल के दाम गिरे और यह सरकारी तेल कंपनी बुरी तरह घाटे में चली गयी और तेल बिकना भी बंद हो गया। ऐसे में बहुत सारे लोगो की नौकरी भी चली गई जो उन्हें मुफ्त में मिली थी। फिर धीरे धीरे जनता को मुफ्त का सामान और सुविधाएं भी मिलना बंद होने लगी। देश की 3.5 करोड़ जनता को मुफ्त का खाना और सामन पाने की आदत लग चुकी थी तो, अब वे खाने के सामन की लूट पाट करने लगे और लड़कियां वेश्यावृत्ति में जाने लग गई।




आज ले समय में वेनेजुएला देश की राजधानी कराकास दुनिया का सबसे असुरक्षित शहर बन गया है. समय है की यहाँ आजकल एक Bread के टुकड़े के लिए हत्या तक हो जाती है और लड़कियां सिर्फ एक bread के लिए खुद को बेच दिया करती हैं। वेनेजुएला में महंगाई िस्नी है की डेढ़ करोड़ बोलिवर में एक थाली खाना मिलता है और 80 हज़ार से 90 हज़ार बोलिवर का एक लीटर दूध.

Rahul Gandhi minimum income guarantee scheme dark side.

Share This Post
Nitin Chourasia
Nitin Chourasia
Uploaderleaks is online news portal in Hindi. Nitin Chourasia is the founder and chief editor of this portal. If any query mail on uploaderleaks@gmail.com
http://www.uploaderleaks.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *