Home > World > वुहान कोरोना वायरस का सोर्स सापं या चमगादड़ नहीं बल्कि Pangolin जानवर: वैज्ञानिकों का दावा

वुहान कोरोना वायरस का सोर्स सापं या चमगादड़ नहीं बल्कि Pangolin जानवर: वैज्ञानिकों का दावा

pangolin coronavirus.
Spread the love





चीन में फैली महामारी कोरोना वायरस के केंद्र वुहान में एक अस्पताल के निदेशक के कोरोना वायरस से प्राण चले गए। चीन के सरकारी मीडिया CCTV ने यह जानकारी दी। खबर के अनुसार, वुचांग अस्पताल के निदेशक लिउ झिमिंग की जान बचाने के सारे प्रयास विफल हो गए और उनकी साँसे रुक गई। लिउ से पहले कोरोना वायरस के कारण अस्पताल के निदेशक स्तर के किसी व्यक्ति के प्राण जानें की खबर नहीं आई थी। उधर, कोरोना वायरस से चीन में अपने प्राण गवाने वालों की संख्या 1868 हो गई है। जबकि इससे संक्रमित होने वालों की कुल संख्या 72,436 हो गई है।

लिउ की खबर सबसे पहले चीनी मीडिया और ब्लागरों ने मंगलवार आधी रात के बाद दी थी, फिर इस खबर को हटा लिया गया था। उस वक़्त बताया जा रहा था कि डॉक्टर बीमार लिउ को बचाने के प्रयास में लगे हैं। लिउ की खबर को वुहान के नेत्र चिकित्सक ली वेन लियांग से भी जोड़कर देखा जा रहा है। नेत्र चिकित्सक ली वेन लियांग को दिसंबर के आखिर में कोरोना वायरस के खतरे के प्रति आगाह करने के लिए चीन की पुलिस ने सजा दी थी।



आपको बता दे की चीनी जानकारों ने शुक्रवार को कहा कि चीन में घातक कोरोना वायरस फैलने के लिए पैंगोलिन जानवर (Pangolins) जिम्मेदार हो सकता है। चीनी वैज्ञानिकों का कहना है कि संक्रमित व्यक्तियों का जीनोम सीक्वेंस पैंगोलिन से अलग किए गए जीनोम से 99 प्रतिशत मिलता जुलता है। पैंगोलिन विश्व में सर्वाधिक तस्करी किए जाने वाले स्तनधारी जानवरों में से एक हैं।

चिकित्सा के क्षेत्र में इन जीवों की अहमियत और चीन जैसे देशों में भोजन के रूप में इनका उपयोग होने के कारण प्रतिवर्ष हजारों की संख्या में पैंगोलिन का गैरकानूनी तरीके से शिकार किया जाता है। साउथ चाइना एग्रीकल्चरल यूनिर्विसटी के वैज्ञानिकों के नेतृत्व में शोधकर्ताओं ने एक दल द्वारा किए गए अनुसंधान के अनुसार पैंगोलिन (Pangolins) से अलग किया गया कोरोना वायरस का जीनोम सीक्वेंस संक्रमित व्यक्तियों के जीनोम सीक्वेंस से 99 प्रतिशत मिलता जुलता है।



इस शोध के मुताबिक़ Pangolins के शरीर से विषाणु फैलने की संभावना हो सकती है। विश्वविद्यालय के अध्यक्ष लिउ यहोंग के अनुसार शोध कर रहे दल ने जंगली पशुओं के जीनोम के एक हजार नमूनों का विश्लेषण किया और पाया कि पैंगोलिन से कोरोना वायरस के फैलने की संभावना सबसे अधिक है।

ज्ञांत हो की कोरोना वायरस फैलने के बाद उसकी उत्पत्ति को लेकर पशु पक्षी चर्चा के विषय हैं। वायरस के फैलने के लिए शुरुआत में साँपों को जिम्मेदार माना जा रहा था। चीनी स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने बाद में कहा कि विषाणुओं की उत्पत्ति चमगादड़ों से हुई थी, लेकिन वह चमगादड़ से मानवों में कैसे फैला यह जांच का विषय है।

माना गया है कि यह कोरोना वायरस वुहान में समुद्री जीवों के बाजार से फैला था। शोध दल के सदस्य और विश्वविद्यालय में प्राध्यापक शेन योंगयी ने कहा कि पहले हुए शोध में पाया गया था कि चमगादड़ों में कोरोना वायरस की उत्पत्ति हुई, लेकिन चूंकि ठण्ड में चमगादड़ शीतनिद्रा में चले जाते हैं, इसलिए उनके द्वारा डायरेक्ट मानवों में वायरस फैलने की संभावना नहीं है। उन्होंने कहा कि उनका काम वायरस को चमगादड़ से मानवों तक पहुंचाने वाले जीव का पता लगाना है और पैंगोलिन ऐसा ही एक जीव हो सकता है।



Spread the love
Nitin Chourasia
Nitin Chourasia
Uploaderleaks is online news portal in Hindi. Nitin Chourasia is the founder and chief editor of this portal. If any query mail on uploaderleaks@gmail.com
http://www.uploaderleaks.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *