Home > India > डिजिटल इंडिया के योद्धाओ की ताकत से महिमा पटेल को मिला न्याय, मंडला डाक्टरों पर कार्यवाही होगी

डिजिटल इंडिया के योद्धाओ की ताकत से महिमा पटेल को मिला न्याय, मंडला डाक्टरों पर कार्यवाही होगी

MahimaPatel MahimaPatelMandla
Spread the love

मध्यप्रदेश के मंडला ज़िले में ग्राम कसोदा मे एक बालिका जिनका नाम महिमा पटेल है को सरकारी अस्पताल के डाक्टरों की लापरवाही का ख़ामियाजा भुगतना पड़ा था। असल मे महिमा पटेल नामक बालिका 90 प्रतिशत शारीरिक रूप से दिव्यांग हैं और उन्हे सरकारी आदेसानुसार अपने दिव्यांग वाला प्रमाणपत्र रिन्यू करवाना था।

ऐसे मे मंडला के सरकारी अस्पताल के लापरवाह डाक्टरों ने 90 प्रतिशत शारीरिक रूप से विकलांग महिमा पटेल को 90 प्रतिशत मानसिक विकलांग वाला प्रमाणपत्र रिन्यू करके दे दिया। ऐसे मे महिला पटेल को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। महिमा पटेल शारीरिक रूप से असक्षम है ऐसे मे वह अपने लिए कुछ नही कर पा रही थी। उसने सोशल मीडीया का सहारा लिया और एक ट्वीट किया अपनी दिक्कत का वर्णन करते हुए।



महिमा पटेल के ट्वीट को जबलपुर मध्यप्रदेश निवासी समीर माहेस्वरी ने देखा और अपने मित्रों को भी टेग किया। और उनके अनेको मित्रों ने अपनी बहन महिमा पटेल को उसका हक़ और न्याय दिलाने के लिए ऑनलाइन मुहिम छेड़ दी।

एक यूज़र ने लिखा की ये बच्ची महिमा पटेल कह रही है कि वह केवल शारीरिक रूप से विकलांग है, मानसिक रूप से पूरी तरह से स्वस्थ है, तो उसे मानसिक विकलांग का प्रमाणपत्र देकर क्यों उसके जीवन के साथ खिलवाड़ क्या जा रहा है?ये मामला गंभीर है, जाँच बहुत ज़रूरी।


मीडीया ने भी ध्यान नही दिया, युवको ने पता लगाया तो पता चला की महिमा पटेल शारीरिक रूप से दिव्यांग है, मानसिक रूप से नहीं. फिर भी मंडला अस्पताल के डॉक्टरों ने मानसिक रोगी की रिपोर्ट बना दी। इनके खिलाफ कार्यवाही को लेकर और महिमा को न्याय दिलवाने कुछ डिजिटल योद्धा सोशल मीडीया के दंगल मे कूद पड़े। एक यूज़र ने लिखा की असल में मानसिक विकलांग तो सर्टिफिकेट प्रदान करने वाले डाक्टर थे। लेकिन वास्तव में यह दोष शासन प्रणाली का है।



एक यूज़र कुंवर अजयप्रताप सिंह ने लिखा की जब व्यक्ति आरक्षण से डॉक्टर बनेगा तो यही होगा अस्पताल में डॉक्टर को ये नही पता कि मरीज को क्या बीमारी है और कर दिया सर्टिफिकेट जारी। म.प्र. के मंडला में दिव्यांग बालिका को मानसिक रोगी बना दिया इसके लिए कौन जिम्मदार है?


इस सोशल मीडीया मुहिम के बाद यह न्यूज़ सही मुकाम पर पहुच गई। यूज़र कुंवर अजयप्रताप सिंह ने बताया की कल जबलपुर से मेरे मित्र Sameer Maheshwari ने मुझे मध्यप्रदेश के मंडला की बहन महिमा पटेल के बारे में बताया जो सभी तरह से परेशान होकर अपनी उम्मीद छोड़ चुकी थी, हमने इसके लिए मिलकर ट्विटर पर ट्रेंड किया और कुछ ही समय मे आदरणीय केन्द्रीय मंत्री श्री थावरचंद गहलोत जी का रिप्लाई आया, और तुरंत उस अधिकारी के खिलाफ मंडला जिला कलेक्टर महोदय ने कार्यवाही का नोटिस जारी कर उक्त मामले की जाँच का आदेश जारी किया।

जब महिमा पटेल को न्याय मिलने और दोषी लापरवाह मांडला डाक्टरों के खिलाफ जाँच और कारवाही के आदेश की बात एक मुद्दे को आगे बढ़ाने वाले समीर माहेश्वरी को बता चली तो समीर ने ट्वीट कर कहा की “ये है Digital India की पावर हमने 2 दिन पहले हमारी दिव्यांगत बहन महिमा पटेल के समस्या निवारण हेतु ट्वीट किया जिसे माननीय केन्द्रीय मंत्री श्री थावरचंद गहलोत जी ने संज्ञान में लिया एवं मदद का अस्वासन दिया और अब लापरवाह डॉक्टरो पे कायर्वाही भी शुरू हो गया है। थैंक यू मोदी जी फ़ॉर मेकिंग Digital India”।

कुंवर अजयप्रताप सिंह नामक उसर ने भी इस कारवाही पर धन्यवाद देते हुए लिखा की “बहुत बहुत धन्यवाद थावरचंद गहलोत सर आपने तुरंत मामले को सज्ञान में लिया और तुरंत कार्यवाही करने का आदेश देकर इस बच्ची को आपने न्याय दिलाने में मदद की।”




तो इस प्रकार सोशल मीडीया के डिजिटल पावर का सही उपयोग भी किया जा सकता है, आज हमे यह दिव्यांग महिमा पटेल और अभी अभी महिमा के भाई बने सोशल मीडीया योद्धाओं ने सिखाया है। आज की यह जीत मीडीया पर सोशल मीडीया की जीत की गवाह है।

जानकारी के अनुसार महिमा पटेल ‘मस्कुलर डिस्ट्रोफी’ नामक गंभीर बीमारी की चपेट में है। इसके कारण महिमा पटेल 10 साल की उम्र में दिव्यांग की श्रेणी में आ गई। महिमा के शरीर की मासपेशियां कमजोर हो गई और हड्डियां-मांसपेशियां सिकुड गई है। मांसपेशियों के विकृत होने के बाद महिमा का सिर्फ चेहरा सेफ है। महिमा बैठने, उठने में असमर्थ है।



Facebook Comments

Spread the love
Nitin Chourasia
Nitin Chourasia
Uploaderleaks is online news portal in Hindi. Nitin Chourasia is the founder and chief editor of this portal. If any query mail on uploaderleaks@gmail.com
http://www.uploaderleaks.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!