Home > India > कासगंज हिंसा का यह सच और वीडियो मीडीया नही दिखाएगा, आपने जाना आधा सच अब देखें पूरा सच

कासगंज हिंसा का यह सच और वीडियो मीडीया नही दिखाएगा, आपने जाना आधा सच अब देखें पूरा सच

KashganjHindiNews ChandanGuptaStory
Share This Post

POST BY : ASHU YADAV (Guest Writer)

गणतंत्र दिवस के दिन तिरंगा यात्रा में हिस्सा ले रहे चंदन की दो समुदायों के बीच हुए हिंसक झड़प में गोली लगने से मौत हो गई थी। आशु यादव ने अपनी पोस्ट में इस हिंसा की असली हक़ीकत बताने की कोशिश की है , इस मुद्दे पर लोग और मीडीया तरह तरह की बातें कर रही है, कुछ ने मारे गये चंदन को शहीद तो कुछ ने दंगाई बता डाला किंतु यह सच जानकर आप सोच मे पढ़ जाएँगे की मीडीया रह सच्चाई कब देखायेगा ?

आशु यादव बताते हैं की “विशाल ठाकुर कई दिनों से इस तिरंगा यात्रा की तैयारी कर रहा था। 300 बाइक्स इसका टारगेट था साथ ही वो इन बाइक्स के साथ पूरा शहर कवर करना चाहता था,ये उसकी राजनीतिक इच्छा हो सकती है।उसने कासगंज के बड्डू नगर जो कि मुस्लिम और क्रिमिनल जोन है उसमें भी अपनी यात्रा ले जाना प्लान कर रखा था। ये खबर पूरे शहर में थी।”

आगे आशु यादव ने बताया की “बड्डू नगर का पढ़ा लिखा शातिर वकील मुनाजिर रफ़ी जो मुस्लिम लड़को में खासा चर्चित है, उसने इनको रोकने के लिए प्लान बनाया था।एक छोटा सा गणतंत्र दिवस का आयोजन अपनी गली में रख लिया साथ ही बड़ी संख्या में आ रहे लड़कों से मुकाबले के लिए मुस्लिम लड़को को तैयार भी कर लिया।

जब 26 जनवरी के दिन तिरंगा यात्रा मुनाजिर के इलाके में पहुँची तो वंहा बस 3 लड़को में जिनमे से एक मुनाजिर भी था 300 बाइक्स का रास्ता रोक लिया और उनको वापस जाने को कहने लगा।

वापस भेजने के लिए बस एक तर्क था कि आगे हमारा प्रोग्राम होना है तो तुम यंहा से नही जा सकते हो ।18 फ़ीट की गली से सभी का पीछे जाना भी संभव नही था और नई उम्र के लड़के इसके लिए तैयार भी नही थे।तकरीबन 12 मिनट की गहमा-गहमी के बाद अचानक सब्र जैसे ही टूटा, इन 3 लड़को को छतों से कवर कर रहे लड़कों ने ई ट, पत्थर,तेज़ाब की बोतल फैकने शुरू कर दिए।भगदड़ सी मच गई तभी कुछ फ़ायर हुए एक चंदन को और दूसरा राहुल को लगा।”

आगे आशु यादव ने बताया की “उस छोटी गली में 300 बाइक्स वाले तकरीबन 500 लड़के अपने को असुरक्षित महसूस करते हुए अपनी बाइक्स छोड़ कर भाग खड़े हुए।बड़ी मुश्किल से कुछ लड़के घायलों को विलराम गेट तक लाए।घटना के कुछ देर बाद जैसे ही शहर में ये खबर फैली तभी फोर्स और काफी हिन्दू घटना स्थल की तरफ भागे लेकिन अब गली में सन्नता फैला हुआ था।सड़क बाइक्स और ईट, पत्थर और टूटे शीशों से पटी पड़ी थी।”

तिरंगा यात्रा लेकर चल रहे लड़के किसी धार्मिक जुलूस का हिस्सा नही थे जो उनको किसी गली मोहल्ले में जाने से पहले किसी की अनुमति की आवश्यकता हो । तिरंगा यात्रा में शामिल हुए लड़को के पास झंडा और उसमें लगा दंडा के अलावा कुछ भी न था और हमारे देश प्रेमी भाइयों के पास चंद मिनटों में ईंट,पत्थर, तेज़ाब की बोतलें और देसी कट्टे सब निकल आए।

कुछ सवाल जो जायज़ है –

1-झंडा जब 8 बजे फहरा दिया जाता है तो इन मुस्लिम लड़कों ने किसके इंतज़ार में 10 बजे के बाद तक कार्यक्रम रोक कर रखा हुआ था।

2-रास्ता रोकने वाले 3 लड़को के एक इशारे पर 500 की भीड़ तितर-वितर कैसे कर दी गयी अगर पहले से कोई तैयारी नही थी ?

3-एबीपी चैनल ख़बर दिखा रहा है कि ये विवाद वंदेमातरम कहने के वजह से हुआ है तो भारत का कौन सा कानून मुस्लिमों को विरोध के लिए हिंसा की इजाज़त देता है ?

4-तिरंगा यात्रा में भगवा झंडा फहराना किसी को कैसे उत्तेजित कर सकता है ?

5-एक जिम्मेदार चैनल अपने मुस्लिम पत्रकार जो गलत सूचना दे रहा है कि “हॉट टॉक के बाद बाइक्स को वंहा से जाने दिया गया और उसके बाद सबको पता है कि कासगंज में क्या हुआ “……घटना के बाद का वीडियो जिसमे मुस्लिम युवक,पुलिस और हिन्दू सभी है, साथ ही घटना स्थल पर 50 से ज्यादा बाइक्स गिरी पड़ी है। कैसे कह सकते है कि वंहा से बाइक्स को जाने दिया गया ?

2 वीडियो भी अटैच कर रहा हू, एक घटना से कुछ sec पहले का है जिसमे गले के मफलर ,आखों पर चश्मा लगाए मुनाजिर रफ़ी नाम का वकील दिख रहा है जो तिरंगा यात्रा का रास्ता रोक रहा है, दूसरे वीडियो घटना के बाद का है –

#कासगंजदंगा#kasganjRiots #ABPnews क्यों भड़की कासगंज में हिंसा …..विशाल ठाकुर कई दिनों से इस तिरंगा यात्रा की…

Posted by Ashu Yadav on Sunday, 28 January 2018

यह न्यूज़ और वीडियो आशु यादव जी द्वारा अपलोडर लीक्स डॉट कॉम से सांझा किए गये हैं। और आशु यादव ने इस हिंसा पर जो सवाल उठाये है, वे सच मे हमारी एक तरफ़ा मीडीया का दोहरा चरित्र दर्शाती है! यह खबर आशु यादव की पोस्ट से प्रेरित है और लेख भी आशु यादव जी ने हमसे सांझा किए है। WWW.UPLOADERLEAKS.COM टीम फिलहाल किसी आरोप की पुस्ती नही करती है, किंतु वीडियो मे जो दिखाई दे रहा है उसे मीडीया कैसे झुठला सकती है ?

Posted by Ashu Yadav on Sunday, 28 January 2018

आपको बता दें की दबिश के दौरान पुलिस को दोनाली बंदूक बरामद हुई। आइजी के अनुसार पुलिस ने पिछले तीन दिनों में गिरफ्तार 82 लोगों को भेजा जेल। इनमें 31 हत्या और बलवा में नामजद या चिन्हित है। शेष 51 धारा-144 उल्लंघन के दोषी। इसके अलावा 40 लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। रविवार तड़के उपद्रवियों ने चार खोखों में आग लगाई थी। भरगैन में दूधिये को पीटा। दिन में पीस कमेटी बैठक में शहर में अमन-चैन बहाल करने पर जोर दिया गया और अधिकारियों ने बाजार खुलवाने का प्रयास भी किया।

Posted by Ashu Yadav on Sunday, 28 January 2018

कासगंज हिंसा में मारे गए चंदन के परिवार से मिलने जा रहीं साध्वी प्राची को पुलिस ने रास्ते में ही रोक दिया, इसके बाद वे अलीगढ़ पहुंचीं और 24 घंटे के भीतर हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए यूपी सरकार को अल्टीमेटम दिया। उत्तर प्रदेश के कासगंज में भड़की हिंसा के बाद जायजा लेने जा रहीं साध्वी प्राची को पुलिस ने हाथरस के कस्बा सिकंदराराऊ में रोक दिया। कासगंज जाने में सफल नहीं हुईं तो साध्वी अलीगढ़ पहुंचीं और यहां उन्होंने प्रशासन पर जमकर भड़ास निकाली ।

Read Also- पोस्ट किया की ‘मेँ पद्मावत देखने जाने वाला हूं, उखाड़ लो जो उखाड़ना है’, युवक का ये हाल हुआ:VIDEO

उत्पात मचा रहे करणी सेना कार्यकर्ताओं की पुलिस ने पटक पटक के कुटाई-पिटाई की : VIDEO

पद्मावत पर कथित आंदोलनकारियों को आईना दिखाती नारी शक्ति दबंग काजल त्रिवेदी: VIDEO

अन्न खबरों और रोचक जानकारियों से अवगत रहने के लिये हमारे फ़ेसबुक पेज को ज़रूर LIKE करें – UploaderLeaks

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कॉमेंट बॉक्स मे ज़रूर दें

Share This Post
Nitin Chourasia
Uploaderleaks is online news portal in Hindi. Nitin Chourasia is the founder and chief editor of this portal. If any query mail on uploaderleaks@gmail.com
http://www.uploaderleaks.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *