Home > India > विश्व योग दिवस पर आर्ट ऑफ़ लिविंग के अंतराष्ट्रीय निर्देशक दर्शक हाथी ने बताई अहम् बातें

विश्व योग दिवस पर आर्ट ऑफ़ लिविंग के अंतराष्ट्रीय निर्देशक दर्शक हाथी ने बताई अहम् बातें

DarshakHathi Uploaderleaks
Spread the love

योग पूरी दुनिया को भारत की ओर से दिया गया एक ऐसा वरदान है जो आपके शरीर और मन को अनमोल शक्ति प्रदान करता है। शक्ति स्वस्थ और खुश रहने की। 21 जून अंतरराष्ट्रीय योग दिवस। 21 जून को दुनियाभर में मनाया जाने वाला योग दिवस ऐसा ही एक आयोजन है, जिसे पूरी दुनिया की सहमति है और सम्मान है।



हमारे देश भारत में योग को स्वस्थ रहने के लिए लगभग 5000 साल से जीवनचर्या मे शामिल किया गया है। मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक तोर पर योग का भारत और भारत के इतिहास मे बहुत महत्व है। विश्व योग दिवस में मौके पर हमारी टीम ने श्री श्री रविशंकर जी के आर्ट ऑफ़ लिविंग के अंतराष्ट्रीय निर्देशक दर्शक हाथी जी से बात की और योग के बारे में जाना। दर्शक हाथी जी ने बताया की एक योग ही है जो भारत ही नहीं बल्कि पुरे विश्व में शान्ति का सन्देश देता है।

आर्ट ऑफ़ लिविंग के अंतराष्ट्रीय निर्देशन दर्शक हाथी ने बताया की आर्ट ऑफ़ लिविंग पुरे विश्व में योग और शान्ति पहुँचाने के कार्य में अग्रसर है। योग को सभी देशो ने स्वीकारा है। दर्शक हाथी ने कहा की गुरूजी श्री श्री रविशंकर जी के आशीर्वाद से आर्ट ऑफ़ लिविंग पुरे विश्व में योग के महत्त्व और लाभ पहुँचाने में सफल रही है।

दर्शक जी ने बताया की योग से ही शान्ति स्थापित की जा सकती है। योग अशांत मन को शांत कर एक नई सकारात्मक ऊर्जा का संचार करता है। यही कारण है की हमने श्रीनगर कश्मीर में योग के माध्यम से शान्ति का सन्देश दिया और यह कारगर भी रहा। अनेकों कश्मीरी युवा आर्ट ऑफ़ लिविंग से जुड़े और बहुत से भटके हुए कश्मीरी नोजवानों ने गलत राह को त्यागकर सही और शांति की राह को चुना है।



जब हमने दर्शक हाथी से पूछा की ऐसा क्या हुआ की आपकी एक पहल के कारण कश्मीर में भी भटके नोजवानों ने पत्थर छोर शान्ति की राह पकड़ ली? तब दर्शक हाथी ने बताया की आर्ट ऑफ़ लिविंग के माध्यम से कश्मीर में योग और ध्यान पंहुचा। जिन भी लोगो से जैसे मन से हमारी पहल को अपनाया या समझने की कोशिश की, उनके मन को शान्ति मिली और एक सकारात्मक ऊर्जा भी मिली। अब शांत मन भला पत्थर कैसे मारेगा। अगर आप स्वस्थ हैं और आपका मन शांत है तो आप कभी हिंसा नहीं करेंगे।

दर्शक हाथी ने बताया की वे और आर्ट ऑफ़ लिविंग के सभी लोग भारत ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में योग और भारतीय संस्कृति का प्रचार प्रसार कर रहे हैं और यह प्रयास पूरे विश्व में अच्छे स्वास्थ्य और शांति का प्रतीक है।

मौजूदा सरकार के सवाल पर दर्शक हाथी ने कहा की हाल की मोदी सरकार ने अनेक अच्छे कार्य और प्रयास किये हैं। वे मोदी सरकार से संतुष्ठ नज़र आये। उन्हीने कहा की 2014 में प्रधानमंत्री मोदी जी ने योग को अंतराष्ट्रीय पहचान दिलाने और 21 जून जो अंतराष्ट्रीय योग दिवस बनाने में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। आज योग के माध्यम से भारत पुनः विश्व गुरु बन गया है।



भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अंतराष्ट्रीय स्तर पर संयुक्त राष्ट्र महासभा में 27 सितंबर 2014 को पूरी दुनिया में योग दिवस मनाने का प्रस्ताव रखा था। फिर संयुक्त राष्ट्र महासभा ने प्रस्ताव आने के केवल तीन महीने के अंदर योग दिवस के आयोजन की घोसड़ा कर दी थी। संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 11 दिसंबर 2014 को यह ऐलान किया गया कि 21 जून पूरी दुनिया में योग दिवस के रूप में मनाया जाएगा। सभी देखों ने इस पर अपनी अपनी सहमति भरी क्योंकि योग सभी लोगों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य और मन की शांति के लिए एक भेंट है।

आख़िर 21 जून को योग दिवस क्यों ?

21 जून का ही दिन विश्व योग दिवस के लिए चुनने के पीछे खास वजह रही है। असल में 21 जून के दिन ही उत्तरी गोलार्द्ध का सबसे लंबा दिन होता है, भारतीय परंपरा में इसे ग्रीष्म संक्रांति कहा जाता हैं। भारतीय संस्कृति के अनुसार ग्रीष्म संक्रांति के बाद सूर्य दक्षिणायन हो जाता है और सूर्य के दक्षिणायन का समय आध्यात्मिक सिद्धियां प्राप्त करने में बहुत ही असरदार होता है और तो और वैज्ञानिक द्रस्टीकोण से भी यह लाभकारी है।



Facebook Comments

Spread the love
Nitin Chourasia
Nitin Chourasia
Uploaderleaks is online news portal in Hindi. Nitin Chourasia is the founder and chief editor of this portal. If any query mail on uploaderleaks@gmail.com
http://www.uploaderleaks.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!