Home > India > वकील प्रशांत पटेल ने इरफ़ान हबीब को फ़र्ज़ी इतिहासकार बताया, हबीब के मुताबिक शाह पर्शियन शब्द है

वकील प्रशांत पटेल ने इरफ़ान हबीब को फ़र्ज़ी इतिहासकार बताया, हबीब के मुताबिक शाह पर्शियन शब्द है

ShahSurnameHistory IrfanHabib
Share This Post





यह बात तो इतिहास भी जानता है की की कुछ इतिहासकारों ने इतिहास को तोड़ मड़ोर कर जनता को गुमराह करने का काम किया है। यह काम लम्बे समय से होता जा रहा है। एक ऐसे ही मुद्दे पर फिर से गरमा गर्मी चालु हो गई है और इस विवाद ने फिर तूल पकड़ लिया है। एक 85 वर्ष के कथित इतिहारकार इरफ़ान हबीब ने एक बयान दिया की शाह उपनाम पर्शियन है और भारत या संस्कृत का शब्द नहीं है। यह बयान इन इतिहासकार इरफ़ान हबीब ने अमित शाह के सन्दर्भ दे दिया था।

इरफ़ान हबीब ने मुताबिक़ जैसे भाजपा या योगी आदित्यनाथ शहरो के नामबदल रहे हैं तो उनको सबसे पहले अमित शाह का नाम बदल देना चाहिए क्योंकि शाह उपनाम भारत का नहीं पर्शिया का है और यह पर्शियन शब्द है Shah. बस फिर क्या था मीडिया और सोशल मीडिया को एक बड़ा बहस का मुद्दा मूल गया की Shah Surname कहाँ से आया है ?



इस मुद्दे पर दिल्ली के जाने माने वकील प्रशांत पटेल उमराव ने इस ऐसिहासकार इरफ़ान हबीब को लताड़ते हुए ट्वीट किया की “इरफान हबीब कम्युनिस्ट की खाल में छुपा इस्लामिस्ट है या इस्लामिस्ट की खाल में छुपा कम्युनिस्ट, कहना मुश्किल है। लेकिन यह तथ्य है कि अयोध्या में राम मंदिर को विवादित बनाकर रखने में सबसे गंदा किरदार किसी ने निभाया तो वह यही इरफान हबीब ही था।”


Historian Irfan Habib Slammed By Delhi Advocate Prashant Patel Umrao.

आप यह सोच रहे होंगे की वकील प्रशांत पटेल ने यह किन तथ्यों के आधार पर कहा है ? और इतिहासकार इरफ़ान हबीब को झूठा क्यों बता दिया ? तो इसका जवाब आपको हमारी रिसर्च में मिल जायगा।

असल में Shah Surname कहाँ से आया:-

हमारी Uploaderleaks रिसर्च और कुछ इतिहास के जानकारों ने हुई बात पर पता चला की यह शाह उपनाम पर्शिया में शाह, चाइना में शॉ, इंडोनेशिया में सिरिसओ के नाम से जाना जाता है और यह उपनाम इन जगह पर ईस्वी में ही चलन में आया और भारत में ईस्वी पूर्व में यह शब्द साधु रहा है। इस सबका मतलब एक ही होता है सम्मानीय व्यक्ति। साधु प्राकृत भाषा का शब्द है जो की संस्कृत से प्रेरित हैं।



शाह उपनाम हिन्दू और जैन दोनों शर्मा में लाया जाता है। साहू उपनाम भी इसी से प्रेरित हैं। तो यह तो सिद्ध हो गया की शाह उपनाम या शब्द भारत की ही धरती से गया और विख्यात हुआ। भारतीय भूमि में साधु उपमान के सम्मान को देखते हुए 14-15 ईस्वी में मध्य एशिया के खलीफाओं ने शाह उपनाम चलन में लाना शुरू किया। 570 ईस्वी में पैगम्बर मोहम्मद जी का जन्म हुआ और 632 ईस्वी में उनकी मृत्यु हुई। इसके बाद वर्चस्व्य की लड़ाई में शिया और सुन्नी बने उसने बाद खलीफा उपनाम उत्नन्न हुआ और उसने बाद सुल्तानों को शाह उपनाम दिया जाने लगाv यह रहा असली इतिहास।

Meaning of Shah surname : जानने वाली बात यह है की शाह या साधु का मतलब रईस, सरदार, अमिर, अभिजात पुरुष, कुलीन जन, अभिजात, अमीर, उमराव और ठाकुर भी होता हैं। तो इस हिसाब से वकील प्रशांत उमराव भी शाह हुए और अब हमारे द्वारा दी दे इतिहास की इस जानकारी के ज्ञान पर इरफ़ान हबीब को एक सलामी देना तो बनती है।

Title: History Of Word Shah & Nurname Shah Which is surname of BJP Leader Amit Shah.

Share This Post
Nitin Chourasia
Nitin Chourasia
Uploaderleaks is online news portal in Hindi. Nitin Chourasia is the founder and chief editor of this portal. If any query mail on uploaderleaks@gmail.com
http://www.uploaderleaks.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *