Home > India > आचार संहिता का पालन विसर्जन के लिए किन्तु ईदमिलादुन्नवी पर क्यों नहीं? हिन्दू सेवा परिषद् जबलपुर का सवाल

आचार संहिता का पालन विसर्जन के लिए किन्तु ईदमिलादुन्नवी पर क्यों नहीं? हिन्दू सेवा परिषद् जबलपुर का सवाल

JabalpurNews HinduSewaParishad
Share This Post





मध्यप्रदेश में अब चुनाव के मतदान को सिर्फ कुछ की दिन बचे हैं और आचार संहिता का दौर जारी है। ऐसे में मध्यप्रदेश पुलिस प्रशासन भारी बंदोबस्त और प्रदेश में शान्ति बनाये रखने के लिए जुटा हुआ हैं। आज जबलपुर मध्यप्रदेश में कुछ हिंदूवादी संगठन ने प्रशासन से सवाल किया की यह कैसी एक तरफ़ा आचार संहिता हैं ? और कैसा पक्षपात भरा रवैया है ?

असल में 21 नबम्बर को ईदमिलादुन्नवी का त्यौहार था और पुलिस प्रशासन ने आगामी मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 के मद्देनजर कुछ गाइडलाइन ज़ारी की थी। जिसके अनुसार कोई वाहन रैली नहीं निकाली जायगी और 2 साउंड बॉक्स से ज्यादा नहीं बजने चाहये। किन्तु कुछ जगह पर 2 से ज्यादा साउंड बॉक्स बजाए गए। ऐसी खबरे लोगो से सुनने को मिली।

ईदमिलादुन्नवी को दृष्टिगत रखते हुये कन्टोलरूम जबलपुर में ली गयी बैठक, आज दिनॉक 19-11-18 को शाम 4 बजे ईद मिलादुन्नवी…

Posted by SP Jabalpur on Monday, November 19, 2018

जबलपुर मध्यप्रदेश में SP जबलपुर पुलिस के ऑफिसियल पेज पर SP की मीटिंग की फ़ोटो के साथ एक लेख के रूप में साडी गाइडलाइन बताई गई। जिसमे यह साफ़ साफ़ लिखा गया था की ईदमिलादुन्नवी के जुलूस के मार्ग में परंपरागत स्वागत मंच लगाने की अनुमति दी गई थी और अतिरिक्त मंच नहीं लगाने कहा गया था। यही बात हिंदूवादी संगठन ‘हिन्दू सेवा परिषद्’ को पक्षपात पूर्ण लगी


दिन पहले नवरात्र के वक़्त भी चुनाव की आचार संहिता का हवाला देके प्रशासन ने देवी विसर्जन पर परंपरागत लगने वाले स्वागत पंडालो पर रोक लगा दी थी। Hindu Sewa Parishad के सदस्यों का कहना है की दुर्गा विसर्जन के वक़्त जबलपुर की महारानी कही जाने वाली काली माता की मूर्ति विसर्जन पर भी विवाद से अनेकों जबलपुर वासिओं को दुःख भी हुआ।

Hindi Sewa Parishad नामक हिंदूवादी संगठन के सदस्यों के अनुसार जब उस समय चुनाव आचार संहिता के कारण नवरात में दुर्गा मूर्ति विसर्जन पर स्वागत पंडालों को अनुमति नहीं दी गई जबकि मतदान को सवा महीना बचा था। तो वही आज ईद पर जुलुस के स्वागत पंडालों को प्रशासन द्वारा अनुमति दी जाना एक तरफ़ा निर्णय है।जबकि अब मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के मतदान को महज़ 6 दिन ही शेष रह गए हैं। हिन्दू सेवा परिषद् के पदाधिकारियों ने प्रश्न करते हुए कहा की आखिर यह पक्षपात क्यों किया जा रहा है और किसके दवाब में ऐसा पक्षपात किया जा रहा प्रशासन द्वारा?

आपको बता दें की हाल ही में फिर से हिन्दू सेवा परिषद् का नाम सामने आया जब इस हिन्दू वादी संगठन ने जबलपुर सिविक सेंटर में होने वाले एक कार्यक्रम का जमकर विरोध किया था, जिसमे गुजरात का विधायक जिग्नेश मेवानी और JNU छात्र नेता कन्हैया कुमार भासण देने आने वाले थे।

इस सभा में जिग्नेश मेवानी और कन्हैया कुमार का भासण होता, पर उससे पहले ही सुबह सुबह हिन्दूवादी संगठन के विरोध के चकते वह सभा रद्द ही गई।


Share This Post
Nitin Chourasia
Nitin Chourasia
Uploaderleaks is online news portal in Hindi. Nitin Chourasia is the founder and chief editor of this portal. If any query mail on uploaderleaks@gmail.com
http://www.uploaderleaks.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *