Home > India > कांग्रेस खुदके खोदे गड्ढे मे गिरी और चली थी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को फसानें , जानें मामला

कांग्रेस खुदके खोदे गड्ढे मे गिरी और चली थी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को फसानें , जानें मामला

Uploaderleaks VyapamScam KKMishra
Spread the love

POST BY : UPLOADER LEAKS

भोपाल जिले की एक अदालत ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से जुडे मानहानि के मामले में आज कांग्रेस की मध्यप्रदेश इकाई के मुख्य प्रवक्ता के के मिश्रा को दोषी पाते हुए दो वर्ष की सजा सुनायी है। अतिरिक्त जिला न्यायाधीश काशीनाथ सिंह ने कांग्रेस मध्यप्रदेश प्रवक्ता के के मिश्रा के के मिश्रा को दोषी पाते हुए दो साल की सजा और पच्चीस हजार रूपए का जुर्माना लगाया है।

मध्यप्रदेश इकाई के कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता मिश्रा ने 3 वर्ष से अधिक समय पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनकी पत्नी साधना सिंह पर व्यापमं भर्ती परीक्षा में गड़बड़ी के आरोप लगाये थे। इस बात पर के के मिश्रा के खिलाफ मानहानि का मुकदमा यहां की अदालत में दाखिल किया था।

इस मामले में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान स्वयं भी कई बार अदालत पहुंचे थे। भोपाल कोर्ट के फैसले के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, ‘आखिरकार सत्य की जीत हुई। मैं कोर्ट के फैसले से खुश हूं। इस आरोप से मैं और मेरा परिवार काफी दुखी था।’मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने संस्कृत में ट्वीट कर सच्चाई की जीत होने की बात अलग ही अंदाज़ मे कही।

कोर्ट के फैसले के बाद शिवराज ने ट्वीट किया ये संस्कृत श्लोक-

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ट्वीट कर कहा था, ‘हम बेबुनियाद आरोप लगाने वालों को ऐसे ही नहीं छोड़ सकते हैं। ये साफ तौर पर मानहानि का मामला है। किसी पर आरोप लगने के बाद मीडिया उसका पक्ष भी लेती है, लेकिन इस मामले में ऐसा नहीं हुआ।’

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सरकार ने 2014 में कांग्रेस प्रवक्ता के के मिश्रा पर मानहानि का दावा किया। कोर्ट में 26 जून को सुनवाई शुरू हुई। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सरकार की तरफ से दी गई दलीलों मे कहाँ गया की गोंदिया का एक भी चयनित नहीं हुआ। परिवहन आरक्षक भर्ती में गोंदिया के 19 परीक्षार्थियों की भर्तीयों का आरोप पूरी तरह से गलत है।

फूलसिंह चौहान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मामा नहीं हैं, मुख्यमंत्री चौहान के एक मात्र मामा का निधन हो चुका है। मुख्यमंत्री हाउस से 139 कॉल होने का आरोप पूरी तरह से गलत पाया गया, इसका कोई रिकार्ड है ही नहीं।

कांग्रेस प्रवक्ता के के मिश्रा ने मुख्यमंत्री चौहान और उनके परिजनों और सरकार को बदनाम करने के षड्यंत्र के तहत झूठे आरोप लगाए थे। इस वजह से उनकी मानहानि हुई। कांग्रेस द्वारा जारी की गई सूची में हाथ से चिन्ह लगाए गए, जिससे यह जांच को प्रभावित करने में सफल हो सकें।

शिवराज सिंग डाबी ने ट्वीट कर कहा की जब कॉंग्रेस का मुख्य प्रवक्ता के के मिश्रा ही झूठा निकला तो बाकि का क्या हाल होगा।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मानहानि केस में के के मिश्रा को 2 साल की सजा मिली।

कांग्रेस की मध्यप्रदेश इकाई के मुख्य प्रवक्ता के के मिश्रा को दोषी पाते हुए दो वर्ष की सजा और पच्चीस हजार रूपए का जुर्माना लगने पर कुछ लोगो ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को बधाई दी तो कुछ लोगो ने सोशल मीडीया में के के मिश्रा को ट्रोल भी किया।

लगातार वीडियो सप्लाई के लिए हमारा यू-ट्यूब चेनल सबस्क्राइब करें – Uploader Leaks

अन्न खबरों और रोचक जानकारियों से अवगत रहने के लिये हमारे फ़ेसबुक पेज को ज़रूर LIKE करें – UploaderLeaks

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कॉमेंट बॉक्स मे ज़रूर दें

Facebook Comments

Spread the love
Nitin Chourasia
Nitin Chourasia
Uploaderleaks is online news portal in Hindi. Nitin Chourasia is the founder and chief editor of this portal. If any query mail on uploaderleaks@gmail.com
http://www.uploaderleaks.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!