Home > India > कमल सोनकर नही बल्कि ये हैं कासगंज के चंदन गुप्ता के फरार हत्यारे नसीम, वसीम और सलीम

कमल सोनकर नही बल्कि ये हैं कासगंज के चंदन गुप्ता के फरार हत्यारे नसीम, वसीम और सलीम

KamalSonkarKasganj KillerOfChandan
Spread the love

उत्तरप्रदेश के कासगंज में तनाव अब भी बरकरार है। यहां हुई हिंसा में 6 अलग-अलग एफआईआर दर्ज कराई गई हैं। कुल 123 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। पुलिस ने चंदन गुप्ता की हत्या के मामले में नामजद 20 में से 11 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। हत्याकांड में मुख्य आरोपी तीन सगे भाई नसीम, वसीम और सलीम वर्की अभी भी फरार हैं। पुलिस ने तीनों का फोटो जारी किया है।

इस बीच बरेली के कलेक्टर आर. विक्रम सिंह ने फेसबुक पर एक विवादास्पद पोस्ट में मुस्लिम मोहल्लों में पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाकर जुलूस निकालने पर सवाल उठाए। हालांकि बाद में उन्होंने यह पोस्ट डिलीट कर दी।

चंदन हत्याकांड में आरोपी तीनो सगे भाई नसीम,वसीम और सलीम वर्की अभी भी फरार है, जिसमें सलीम मुख्य शूटर है। चंदन की हत्या पर कासगंज के डीएम ने बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने कहा है कि चंदन को जो गोली लगी वो छत से चली थी। इस खुलासे के बाद 20 साल के चंदन की हत्या में नया मोड़ आ गया है। हत्या का आरोप सलीम नाम के शख्स पर लग रहा है, लेकिन, सलीम कहां है इसकी खबर पुलिस को नहीं है।

कासगंज हिंसा के दौरान हुई गोलीबारी में चंदन गुप्ता की मौत हो गई थी। इसके अलावा एक अन्य युवक राहुल उपाध्याय के मारे जाने की बात भी सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी। अब खुद राहुल ने सामने आकर इस खबर का खंडन किया है। राहुल ने बताया कि दंगों के वक्त वह काजगंज में नहीं था, बल्कि अपने गांव गया था।

26 जनवरी को कासगंज जिले के कोतवाली इलाके में बिलराम गेट चौराहे पर तिरंगा यात्रा के तहत विश्व हिंदू परिषद और एबीवीपी के कार्यकर्ता बाइक से रैली निकाल रहे थे। इस दौरान नारेबाजी को लेकर समुदाय विशेष के लोगों से बहस हो गई। तकरार में दोनों तरफ से फायरिंग, पत्थरबाजी हुई, जिसमें तिरंगा यात्रा में शामिल एक युवक चंदन गुप्ता की गोली लगने से मौत हो गई।

दूसरे पक्ष के एक शख्स को भी गोली लगी थी। इसके बाद यहां तोड़फोर्ड और आगजनी की घटनाएं सामने आ रही हैं। रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हिंसा में मारे गए युवक के परिवार वालों को 20 लाख रुपए मुआवजा देने का एलान किया था।

चंदन का परिवार पुलिस की इस कार्रवाई से खुश नहीं है. कल जब डीएम परिवार को 20 लाख का मुआवजा देने पहुंचे तो खूब नारेबाजी हुई।
मानमन्नौवल के बाद डीएम ने चंदन के पिता को 20 लाख का चेक दे दिया लेकिन परिवार अब भी कह रहा है कि मुआवजा नहीं, हमें इंसाफ चाहिए।

चंदन गुप्ता की मौत पे अफवाह भी ऐसी फैलाई गई की तर्क भी शर्मा जाये । सबसे चौकाने वाली बात ये है कि अब इस मामले को कुछ अलग ही रंग देने की कोशिश की जा रही है। सोशल मीडिया पर साबित करने की कोशिश की जा रही है कि कासगंज में एक ‘हिंदू’ ने ही एक ‘हिंदू’ पर गोली चलाई?

कमल सोनकर ने अपनी पिस्तौल से 3 फायर किएउसी गोली से मासूम युवक चंदन गुप्ता मारा गया , फुटेज से पुलिस ने किया गिरफ्तार#संघी_चुप

Posted by Poonam Pandey on Monday, 29 January 2018

सोशल मीडिया पर कुछ ऐसे पोस्ट शेयर किये जा रहे हैं जिनमें कहा जा रहा है कि चंदन गुप्ता की मौत जिस गोली से हुई उसे एक हिंदू ने चलाई थी। कहा जा रहा है कि चंदन को मारने वाले का नाम कमल सोनकर है। सोशल मीडिया पर कई नए खुलासे करते हुए कुछ पोस्ट वायरल हो रही हैं जिनमें कहा जा रहा है कि चंदन गुप्ता की मौत कमल सोनकर की गोली से हुई। सोशल मीडिया पर यह पोस्ट खूब वायरल हो रही है।

कमल सोनकर ने अपनी पिस्तौल से 3 फायर किए उसी गोली से मासूम युवक चंदन गुप्ता मारा गया , फुटेज से पुलिस ने किया गिरफ्तार#संघी_चुप

Posted by Abdul Samad Afzal on Monday, 29 January 2018

वायरल हो रहे पोस्टों में लिखा है कि, 26 जनवरी को कासगंज में हुई हिंसा के दौरान मारे गए शख्स चंदन गुप्ता के हत्यारे का पता चल गया है। उसका नाम कमल सोनकर है। कमल सोनकर ने अपनी पिस्तौल से तीन गोलियां चलाईं और इन्हीं गोलियों से चंदन गुप्ता की मौत हुई।

सोशल मीडिया में यह खबर जंगल में आंग की तरह फ़ैल रही है की हिन्दू ने हिन्दू को मारा। मतलब कमल सोनकर की गोली से चंदन मारा गया। और तो और इस फेक जानकारी के साथ साथ संघी चुप का हैश तेग भी लगा दिया गया। फेकाईपनं की भी हद्द होती है रे सोशल मीडिया के योद्धाओं। उपलोडर लीक्स (WWW.UPLOADERLEAKS.COM) अब आपको कमल सोनकर का सच बताने जा रहा है।

कमल सोनकर ने सच में गोली चलाई थी किंतु जबलपुर मध्यप्रदेश में, गोली चलाकर वो भाग गया था। और उसकी गोली से कोई मरा नहीं था। मध्य प्रदेश में हुई इस अलग घटना को उत्तर प्रदेश के कासगंज से जोड़ दिया गया है। चंदन गुप्ता की मौत को कमल सोनकर की गोली से जोड़ा जाना मतलब जादू, चत्कार,, भला जबलपुर मध्यप्रदेश के कमल सोनकर के बन्दुक की गोली 13 घंटे 35 मिनट का सफ़र और 704 KM की दूरी तय करके कासगंज उत्तरप्रदेश में चंदन को कैसे लग सकती है?

Must Readक्या चंदन की मौत कमल सोनकर की चमत्कारी गोली से हुई? गोली 704 KM की दूरी से आई?

कासगंज हिंसा का यह सच और वीडियो मीडीया नही दिखाएगा, आपने जाना आधा सच अब देखें पूरा सच

अन्न खबरों और रोचक जानकारियों से अवगत रहने के लिये हमारे फ़ेसबुक पेज को ज़रूर LIKE करें – UploaderLeaks

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कॉमेंट बॉक्स मे ज़रूर दें

Facebook Comments

Spread the love
Nitin Chourasia
Nitin Chourasia
Uploaderleaks is online news portal in Hindi. Nitin Chourasia is the founder and chief editor of this portal. If any query mail on uploaderleaks@gmail.com
http://www.uploaderleaks.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!