Home > India > अगर दिवाली प्रदुषण मुक्त करनी है तो क्रिसमस और न्यू इयर भी करो Eco Friendly (VIDEO)

अगर दिवाली प्रदुषण मुक्त करनी है तो क्रिसमस और न्यू इयर भी करो Eco Friendly (VIDEO)

Uploaderleaks uploaderleak upload
Spread the love

POST BY : UPLOADER LEAKS

क्रिसमस और न्यू इयर पास ही है और लोगो की ज़ोरदार तोयारियां भी ज़ोरो पर हैं । आखिर क्रिसमस और न्यू इयर सेलिब्रेट जो करना है। पर आपको याद होगा की दिवाली के मौके पर क्या होता है और क्या हुआ था।

दिल्ली में पठाके पर सुप्रीम कोर्ट ने बेन लगा दिया था। और तो और कुछ लोग जो खुद को सेक्युलर कहते है, वे दिवाली पर पठाके ना जालाने की राय फ्री में बाँट रहे थे किन्तु उनके मुताबिक़ प्रदुषण सिर्फ दिवाली में ही होता है, न्यू इयर के पाठकों से नहीं । क्या यह दोगलापन नहीं है ??

ऐसे ही एक भारतीय महिला ने एक सन्देश दिया वो भी इको फ्रेंडली सन्देश । अगर हम दीवालों को इको फ्रेंडली बनाते हैं यो क्रिसमस और न्यू इयर भी तो इको फ्रेंडली हो।

आपको बता दें की समय के साथ पटाखों की कई तरह की वैरायटियां बाजार में आई और लगातार बढ़ती जा रही है। इन पटाखों में अधिकांश पटाखे अधिक धुंआ निकालते हैं, वहीं उनके धमाके आवाज भी बहुत तेज होती है। जो सरकारी मानक डेसिबल की तुलना में कई ज्यादा होती है।

लोगों की सुविधाओं का ध्यान रखते हुए पटाखा निर्माता कंपनियों द्वारा बाजार में इको फ्रेंडली पटाखे उतारे गए हैं, जिनसे धुंआ भी कम निकलता है और मापक डेसिबल में उनकी आवाज भी कम ही होती है।

आपको बता दें की इको फ्रेंडली पटाखों की खूबियां ये हैं कि इनको हाथ में पकड़ कर चलाया जा सकता है, धुंआ नहीं निकलता बल्कि रंग बिरंगे कागजों की पतंगियां या थरमोकोल की रंग बिरंगी गोलियां फव्वारे के रूप में निकलती हैं। अब बात मार्केट की की जाए तो मार्केट मे प्रदूषण मुख पठाके उपलब्ध हैं किंतु ये फटाके दीवाली मे कहाँ चले जाते है ?

Watch Video Via Youtube-

इस बार सुप्रीम कोर्ट ने राजधानी में पटाखों की बिक्री पर रोक तो लगा दी लेकिन दिल्ली से सटे पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के इलाकों में अलाव जलाने का काम जारी है। इसके चलते दिल्ली दुनिया की सबसे ज्यादा वायु प्रदूषण वाली राजधानी बन गयी।

दिल्ली के बदरपुर पावर प्लांट को मार्च तक बंद करने के फैसला किया है। कोयले से चलने वाले इस पावर प्लांट से 700 मेगावॉट बिजली मिलती है। लेकिन प्रदूषण को काबू में करने के लिए इसे बंद कर दिया गया है। वैसे भी जुलाई 2018 से भारत बहुत ज्यादा प्रदूषण करने वाले जैविक ईंधन से दूर जाने का प्लान बना चुका है। प्रदूषण बोर्ड ने डीजल जेनरेटरों के इस्तेमाल पर भी पाबंदी लगा दी है।

A request to all for Christmas and New Year..!!#SaveEnvironment #SaveEarth

Posted by Wise Indian Tongue – WIT on Wednesday, 20 December 2017

Ankita Sood Video on eco friendly New Year.

लगातार वीडियो सप्लाई के लिए हमारा यू-ट्यूब चेनल सबस्क्राइब करें – Uploader Leaks

अन्न खबरों और रोचक जानकारियों से अवगत रहने के लिये हमारे फ़ेसबुक पेज को ज़रूर LIKE करें – UploaderLeaks

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कॉमेंट बॉक्स मे ज़रूर दें

Facebook Comments

Spread the love
Nitin Chourasia
Nitin Chourasia
Uploaderleaks is online news portal in Hindi. Nitin Chourasia is the founder and chief editor of this portal. If any query mail on uploaderleaks@gmail.com
http://www.uploaderleaks.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!