Home > Gajab > यह रहा सबसे बड़ा सबूत की गाये क्यों माता होती है ? मुस्लिम बच्चे की माँ बनी गाय (Video)

यह रहा सबसे बड़ा सबूत की गाये क्यों माता होती है ? मुस्लिम बच्चे की माँ बनी गाय (Video)

JabalpurNews MotherCow
Spread the love





भारत में हमेशा से ही गाय को पूजा गया है और गाये को माता कहा जाता है. भारतीय संसक्रती में गाये को माँ माने जाने के पीछे धार्मिक और वैज्ञानिक दोनो कारण बताए गये हैं. गाय को आख़िर माता क्यों कहा जाता है यह प्रश्न कुछ लोग उठाते रहे हैं और कुछ कथित ग्यानि इसका उत्तर देते हुए बता दिया करते हैं कि गाय हमें दूध देती है इसलिए गाय माता है। किंतु लोग प्रश्न दाग देते हैं कि बकरी भी दूध देती है और भैंस भी दूध देती है तो ऐसे में गाय ही माता क्यों मानी गई है ?

इसके पीछे हम आपके सारे तथ्य गिनवा देंगे. वो भी दोनो प्रकार के तथ्य. मतलब धार्मिक और वैज्ञानिक कारण. यह सब चीज़ें तो अपनी जगह पर है. किंतु मध्यप्रदेश के जबलपुर में कुछ ऐसा हुआ, जिसको देखके आप सच मे कह पड़ेंगे की यह गाय माँ ही है.

भारत के दिल कहे जाने वाले मध्यप्रदेश के जबलपुर शहर में एक लड़का देखा गया जो की मानसिक रूप से दिव्यांग है और कुछ भी बाय्ल या समझ पाने मे असक्षम है. यह लड़का बहुत ग़रीब भी है और लॉगी ने तो इसे नज़रअंदाज़ कर दिया किंतु इस मानसिक दिव्यांग लड़के लोग गाये का सहारा मिला. कुछ गाये एक लड़के को माँ का स्नेह दे रही हैं और उसे अकेला बिल्कुल नही रहने देती हैं. आपको बता दें की यह सभी गाय आवारा हैं और शहर मे ही घूमती रहती हैं. एक मानसिक दिव्यांग बच्चे को आवारा गाये ने समझा और माँ की ममता का सहारा दिया.




इंटरनेट पर गाये या गौ माता पर पोस्ट, ट्वेट और लेख लिखने वालों तो तो यह वीडियो ज़रूर देखना चाहिए. दिखाए गये वीडियो में आप देख सकते हैं की यह लड़का गाये के साथ बैठा हुआ है और गाए पर भी सिर रखकर सो भी जाता है. आश्चर्य की बात तो यह है की गाये भी इस लड़के का पूरा ख़याल रखती हैं और जो कोई भी इनके पास आता है उसे भगा देती हैं किंतु इस लड़के को स्नेह करती है जैसे मानो उसकी माँ हो.

इस मानसिक दिव्यांग लड़के और इसकी गाये रूपी माँ के मुद्दे पर एक बात अहम यह है की जब इस लड़के के बारे मे पता लगाने का प्रयास किया गया तब पता चला की यह लड़का वही कही पास की बस्ती का है और धर्म से मुस्लिम है. मानसिक रूप से दिव्यांग होने के कारण उसके परिवार वालों ने भी उसकी खोज़ खबर रखना छोड़ दिया है. यह लड़का मंदिर ले आसपास भी भटकता रहता है और मंदिर के बाहर बैठी गाये ही उसका परिवार हैं. मंदिर के प्रसाद और भंडारे से ही उसका जीवन चलता है. अब मंदिर के भंडारे और गाय की ममता इस बात का फ़र्क नही करती की कौन हिंदू और कौन मुस्लिम? .



गाये को धर्म मे बाँटने वाले धर्म के ठेकेदारों और गौ माता पर राजनीति करने वाले कथित नेताओ को यह वीडियो ज़रूर देखना चाहिए की ना गाये ने देखा की ज़रूरत मंद बंदा किस धर्म से है और ना ही मंदिर के प्रसाद ने कभी देखा. बस मंदिर के बाहर खाने का जुगाड़ हो गया लड़के ले लिए और स्नेह और ममता तो गौ माता ने नौछावर कर ही दी. नीचे दिया गया वीडियो सावाक है उन लोगो के लिए जो गोरक्षा ने नाम पर राजनीति करते हैं और ने नेता जो गाये को केवल हिन्दुओ की माता बताते हैं.

A Cow is caring a mentally ill boy like as mother –

Video : Why Cow Is Called Mother In India ?

गाये के दूध को अमृत कहा गया है। मां के दूध के अलावा नवजात शिशु के लिए अगर कुछ भी खाने योग्य होता है तो वह गाय का दूध होता है। इसके अलावा गाय के दूध में 16 प्रकार के मिनरल्स भी होते हैं जो एक बच्चे के शरीर के लिए बहुत ही फाएेदेमंद होते है. एक छोटे बच्चे को अगर बकरी या भैंस का दूध कभी नही देना चाहिए. छोटे बच्चो को केवल गाये का दूध ही पच पाता है. सभी पशुओं मे गाये ही सबसे शांत पशु है जिससे आपको या आपके बच्चे को कोई ख़तरा नही है.



कोई भी अपने बच्चे मतलब बछदे को दूध पिलाने के बाद बचे दूध को हमें लेने की इजाजत दे देती है, और हम उनके दूध को बड़ी आसानी से ले लेते हैं. गाए के दूध से हमारा पोषण होता है। गाय हमारे लिए दूसरी मां है। इसीलिए हमारी संस्कृति में गाय को पवित्र माना जाता रहा है। और भारतीयों के लिए तो गाए का विशेष महत्व है.

Facebook Comments

Spread the love
Nitin Chourasia
Nitin Chourasia
Uploaderleaks is online news portal in Hindi. Nitin Chourasia is the founder and chief editor of this portal. If any query mail on uploaderleaks@gmail.com
http://www.uploaderleaks.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!