Home > India > जम्मू कश्मीर में भारी सुरक्षा लगाई, Article 35A क्या है और क्यों इसे ख़त्म करना जरुरी है? जानें

जम्मू कश्मीर में भारी सुरक्षा लगाई, Article 35A क्या है और क्यों इसे ख़त्म करना जरुरी है? जानें

Article35A 35AnewsHindi
Share This Post





जम्मू कश्मीर में पुलवामा हमले के कुछ ही दिन बाद जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों का की तादात बढ़ने लगी है। मीडिया में आई खबर के अनुसार केंद्रीय गृह मंत्रालय ने चीफ सेक्रेटरी, जम्मू-कश्मीर सरकार, श्रीनगर होम मिनिस्ट्री को एक फैक्स भेजा और मैसेज में कहा कि जम्मू-कश्मीर में फ़ौरन CRPF की 45, BSF की 35, SSB की 10 और ITBP की 10 कंपनियों को भेजा जाए। सभी टुकड़ियों को जम्मू कश्मीर में ही रखा जाएगा।

खबरों के अनुसार 25 फरवरी सोमवार को जम्मू-कश्मीर को संविधान की ओर से विशेष दर्जा प्रदान करने वाली धारा 35-A पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होने वाली है। इस खबर से पुरे जम्मू कश्मीर में खतरा बढ़ गया है और झड़प और प्रदर्शन होने की पूरी उम्मीद जताई जा रही है.इसके लिए सुरक्षा विशेष इंतजाम किए जा रहे हैं।



पाकिस्तान में भी हलचल बढ़ गई है। वहीँ पाकिस्तानी सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा ने LOC का दौरा भी किया। वहीँ बाजवा ने सभी पाकिस्तानी सैनिकों को चौकन्ने रहने के लिए भी कहा हैं।पुलवामा आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान सेना प्रमुख का यह दौरा साफ़ साफ़ संकेत दे रहा है। पुलवामा हमले के बाद से राज्य में सुरक्षा व्यवस्था को ज़बरदस्त किया गया है। SC में सुनवाई की घोषणा के बाद से राज्य में पुलिस सक्रिय हो गई है और किसी प्रकार की भी घटना से निपटने के लिए कुछ अलगाववादी नेताओं को हिरासत में भी लिया गया है। भारत में अलगाववादी नेता यासीन मलिक को भी इसी वजह से गिरफ्तार किया गया है।




आपको बता दे की इस आर्टिकल 35 A के अनुसार भारत के संविधान में जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा दिया गया है। जम्मू-कश्मीर का संविधान 1956 में बनाया गया था। भारत की आज़ादी और भारत-पाक बटवारे के बाद 1954 में 35-A संविधान में जोड़ा गया था। इस आर्टिकल के अनुसार जम्मू कश्मीर राज्‍य में स्‍थाई निवासियों की एक अलग ही सीमा तय की गई है।

What is article 35A and what rights it provides Jaqmmu & Kashmir people (आर्टिकल 35A क्या है?)-

इस आर्टिकल के अनुसार जम्मू कश्मीर सरकार उन लोगों को स्थाई निवासी मानती है, जो 14 मई 1954 के पहले जम्मू कश्मीर में बसे थे। उससे पहले के 10 वर्षों से राज्य ही रहे हों और वहां संपत्ति अर्जित की हो। आर्टिकल 35A में जम्मू कश्मीर को ये अधिकार मिला है कि वह किसे अपना स्थाई निवासी मान सकता है। इसके साथ ही वह किसी से यह अधिकार छीन भी सकता हैं। यहां के स्थाई निवासियों को ही यहां जमीन खरीदने, रोजगार पाने और सरकारी योजनाओं का लाभ पाने के अधिकार हैं।




यह अनुच्छेद 35A किसी गैर कश्मीरी व्यक्ति को जम्मू कश्मीर में जमीन खरीदने की अनुमति नहीं देता है फिर चाहे वो भारत का कोई भी व्यक्ति हो. भारत के किसी दूसरे राज्य का निवासी जम्मू कश्मीर का स्थायी निवासी नही बन सकता है। और यही कारण है की वहां कोई और वोट भी नही डाल सकता है।

सबसे रोचक बात है की अगर जम्मू कश्मीर की कोई लड़की किसी दूसरे राज्य के लड़के से शादी या निकाह करती है, तब उस कश्मीरी लड़की के जम्मू कश्मीर के सारे अधिकार खत्म हो जायेंगे। उसके बच्चों को भी कोई कश्मीरी अधिकार या ज़मीन नहीं मिलेगी।


Share This Post
Nitin Chourasia
Nitin Chourasia
Uploaderleaks is online news portal in Hindi. Nitin Chourasia is the founder and chief editor of this portal. If any query mail on uploaderleaks@gmail.com
http://www.uploaderleaks.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *