Home > India > सेना पर गलत टिप्पड़ी करने पर अंजना ने गूंगा बना दिया बन्दे को, बेजत्ति की सो अलग: VIDEO

सेना पर गलत टिप्पड़ी करने पर अंजना ने गूंगा बना दिया बन्दे को, बेजत्ति की सो अलग: VIDEO

AnjanaOmKashyapHot AnjanaOmKashyapSexy
Share This Post

POST BY : UPLOADER LEAKS

जम्मू-कश्मीर के शोपियां में पत्थरबाज भीड़ पर सेना की फायरिंग में दो नागरिकों की मौत के बाद सेना के एक मेजर पर एफआईआर दर्ज की गई है। बुधवार (31 जनवरी) को सेना की तरफ से भी एक एफआईआर दर्ज कराई गई है। वार-प्रतिवार पर पूरे देशभर में ये चर्चा हो रही है कि क्या सेना पर आतंकियों को समर्थन देने वाले लोगों पर बंदूक तानने का अधिकार है या नहीं।

इसी मुद्दे पर आजतक चैनल पर ‘हल्ला बोल’ कार्यक्रम के लाइव शो में सामाजिक कार्यकर्ता बाबर कादरी और अन्य मेहमानों के बीच जमकर बहस हुई। कादरी ने कहा, “यहां की फौज खून की प्यासी है।” आरएसएस समर्थक राकेश सिन्हा ने तुरंत कादरी का विरोध किया और कहा कि गलत शब्द का इस्तेमाल कर रहे हैं। शो की होस्ट और एंकर अंजना ओम कश्यप ने भी तुरंत मामले में दखल देते हुए बाबर कादरी की बोलती बंद करते हुए अपने सहयोगियों को इशारा किया और कहा कि इनकी आवाज तुरंत ऑफ एयर की जाय।

अंजना ने कहा कि ऐसी बातें ऑन एयर नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना का अपमान करने की इजाजत आपको नहीं दी जा सकती है।
राकेश सिन्हा ने कहा कि सेना पर ऐसी टिप्पणी करने के लिए कादरी माफी मांगें। सिन्हा ने कहा कि जो सेना देश की रक्षा कर रही है, देश की सम्प्रभुता की रक्षा कर रही है, उसके लिए इस तरह की बात नहीं करनी चाहिए।

सिन्हा ने कहा कि इसी सेना ने जब कश्मीर में बाढ़ आई थी तब कश्मीरियों की जान बचाई थी। इनमें से कई कादरी के परिवार वाले भी थे। उन्होंने कहा कि सेना कश्मीर से अगर हट जाएगी तो आपका जीना दुश्वार हो जाएगा। रक्षा विशेषज्ञ रिटायर्ड मेजर एजेबी जैनी ने कहा कि जब कश्मीर में भूकंप आया था तब आप कहां थे, जब वहां बाढ़ आई थी तब आप कहां थे?

जैनी ने कहा कि उस वक्त भी सेना मुस्तैदी से अपना धर्म निभा रही थी। इंसानियत को बचा रही थी। लोगों को बचा रही थी। राकेश सिन्हा ने कहा कि कादरी को देश में नहीं रहने दिया जाएगा क्योंकि वो पाकिस्तान की भाषा बोलते हैं। इससे पहले दोनों के बीच इतिहास को लेकर भी तीखी झड़प हुई। जब पैनलिस्टों ने बाबर कादरी पर हमला बोला तो उन्होंने अपने मुंह पर कागज रख लिया।

जम्मू-कश्मीर के शोपियां घटना पर सेना ने पूरी जानकारी सामने रखी है। सेना ने बताया कि पिछले शनिवार को शोपियां में वास्तव में क्या हुआ था? सेना ने कहा कि सैनिकों ने आत्म-रक्षा में सीमित फायरिंग की थी। सेना की ओर से बताया गया है कि पिछले शनिवार को दक्षिण कश्मीर के शोपियां में सेना के काफिले पर हिंसक भीड़ पत्थर बरसा रही थी। फायरिंग करने से पहले आखिर तक भीड़ को चेतावनी दी गई थी। गौरतलब है कि इसी दौरान तीन नागरिकों की मौत हो गई और 7 सैनिक जख्मी हो गए थे।

सेना ने भी काउंटर-FIR दर्ज कराई है। इसमें विस्तार से जानकारी दी गई है कि कैसे सेना के 4 वाहनों को घेरकर हिंसक प्रदर्शनकारियों ने हमले करना शुरू कर दिया था। सेना के काफिले में से ये गाड़ियां 16 अन्य से अलग हो गई थीं। इससे पहले स्टेट पुलिस ने मेजर आदित्य और 10 गढ़वाल राइफल्स बटैलियन के जवानों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। इसमें सैनिकों पर हत्या, हत्या की कोशिश का मामला दर्ज किया गया है।

उत्तरी कमान के चीफ लेफ्टिनेंट जनरल देवराज अन्बु ने बुधवार को कहा, ‘हमने अपनी आंतरिक जांच की है। सैनिकों को चरम सीमा तक उकसाया गया था और इसके बाद ही उन्होंने प्रतिक्रिया दी थी। यह साफतौर पर आत्म-रक्षा में और सरकारी संपत्ति की सुरक्षा के लिए की गई कार्रवाई थी।’ उधर, इस मामले पर जम्मू-कश्मीर में गठबंधन सरकार में शामिल पीडीपी और बीजेपी में भी तनातनी देखी जा रही है।

लेफ्टिनेंट जनरल अन्बु ने कहा, ‘पुलिस के द्वारा एक सामान्य FIR दर्ज करनी चाहिए थी, मेरा मानना है कि उन्होंने जल्दबाजी में एक नाम (मेजर आदित्य) शामिल कर दिया। FIR अभी शुरुआती स्टेप पर है और जांच अभी शुरू हो रही है।’

एक अधिकारी ने कहा कि वास्तव में सेना का दृढ़तापूर्वक कहना है कि मेजर आदित्य (जो प्रशासनिक काफिले का नेतृत्व कर रहे थे) उस जगह से काफी दूर थे जहां शनिवार को फायरिंग हुई। अधिकारी ने कहा, ‘वह 16 अन्य गाड़ियों के साथ थे, जो इन चार वाहनों से अलग हो गई थीं। सेना के चार वाहनों को 200 से ज्यादा पत्थर बरसाने वाले प्रदर्शनकारियों ने घेर रखा था।’

पत्थरबाजी के दौरान चारों वाहनों के इन-चार्ज जूनियर कमिशंड ऑफिसर (JCO) के सिर पर एक पत्थर लगा, जिससे वह बेहोश होकर गिर पड़े। उस समय वह प्रदर्शनकारियों से मामला शांत कराने की कोशिश कर रहे थे। अधिकारी ने कहा, ‘उत्तेजित भीड़ ने JCO को मारने और उनका हथियार छीनने की कोशिश की थी। चेतावनी के बावजूद पत्थरबाजों ने सेना की गाड़ियों को काफी नुकसान पहुंचाया। हालात नियंत्रण में न होता देख आखिरकार सैनिकों के पास फायरिंग के अलावा दूसरा कोई विकल्प नहीं बचा।’

लगातार वीडियो सप्लाई के लिए हमारा यू-ट्यूब चेनल सबस्क्राइब करें – Uploader Leaks

अन्न खबरों और रोचक जानकारियों से अवगत रहने के लिये हमारे फ़ेसबुक पेज को ज़रूर LIKE करें – UploaderLeaks

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कॉमेंट बॉक्स मे ज़रूर दें

Share This Post
Nitin Chourasia
Nitin Chourasia
Uploaderleaks is online news portal in Hindi. Nitin Chourasia is the founder and chief editor of this portal. If any query mail on uploaderleaks@gmail.com
http://www.uploaderleaks.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *